सेविंग्स मैक्स अकाउंट

एयर / रोड / रेल से डेथ कवर -आपके प्लेटिनम डेबिट कार्ड पर 10 लाख रुपये तक बीमा कवर( डेबिट कार्ड पर मुफ्त पर्सनल डेथ बीमा कवर लेने के लिए डेबिट कार्ड को हर 30 दिनों में रिटेल या ऑनलाइन स्टोर पर कम से कम एक बार इस्तेमाल करना आवश्यक है)

अपने डेबिट कार्ड से हवाई टिकट खरीदने पर फ्लैट 3 करोड़ रुपए का अतिरिक्त अंतर्राष्ट्रीय एयर कवरेज

200,000 रुपए तक डेबिट कार्ड से खरीदी गई वस्तुओं के जलने और चोरी होने पर(90 दिनों तक) बीमा कवर

लॉस ऑफ़ चेक्ड बैगेज - 2,00,00 रुपये का बीमा कवर (आग और चोरी / लॉस ऑफ़ चेक्ड बैगेज के बीमा के तहत किसी भी नुकसान के क्लेम को लेने और प्रोसेस के लिए कार्डधारक को घटना की तारीख से 3 महीने पहले डेबिट कार्ड से कम से कम 1 परचेज ट्रांंजेक्शन करना आवश्यक है।)

नहीं होगा रेलवे का निजीकरण, कुछ सेवाओं को दिया गया ठेके पर

privatisation of railways will not be done, only few services outsourced, says piyush goyal

संसद के शीतसत्र के पांचवे दिन केंद्र सरकार ने उच्च सदन में बताया कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जा रहा है, बस यात्रियों को सहूलियत देने के लिए कुछ सेवाओं को ठेके पर दिया जा रहा है।केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को प्रश्नकाल के दौरान सदन को बताया कि एक अनुमान के तहत रेलवे को सुचारू रूप से चलाने के लिए अगले 12 वर्षों में 50 लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी। सरकार के लिए यह खर्च उठाना मुश्किल है इसलिए यह कदम उठाये जा रहे हैं।

गोयल ने कहा, हर दिन बेहतर सेवाओं और रेलवे लाइन्स के लिए सदस्य एक नई मांग लेकर आते हैं। इन्हें पूरा करने के लिए अगले 12 साल के लिए 50 लाख करोड़ रुपये देना सरकार के लिए आसान नहीं है। बजट से जुड़ी कई समस्याएं होती हैं जिन्हें निपटाने के उपाय करने होते हैं।

यात्रियों की बढ़ती संख्या के लिए हजारों नई ट्रेनें शुरू करने और अधिक से अधिक निवेश की आवश्यकता है। ऐसे में अगर निजी निवेशक सरकार के नेतृत्व में इस क्षेत्र में पैसा निवेश करना चाहते हैं तो इसमें क्या गलत है। विभाग का स्वामित्व सरकार के पास ही रहेगा। इसे निजीकरण नहीं कहा जा सकता, सिर्फ कुछ सेवाओं को सहूलियत FX क्या है? आउटसोर्स किया जा रहा है।

रेलवे कर्मियों पर नहीं पड़ेगा कोई प्रभाव

रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी ने कहा, हम सिर्फ वाणिज्यिक और ऑन बोर्ड सेवाओं को निजी क्षेत्र से आउटसोर्स कर रहे हैं। स्वामित्व पूरी तरह से रेलवे का होगा और इससे रेलवे कर्मचारी किसी तरह से प्रभावित नहीं होंगे। निजी क्षेत्र के आने से रोजगार और बढ़ेंगे।

संसद के शीतसत्र के पांचवे दिन केंद्र सरकार ने उच्च सदन में बताया कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जा रहा है, बस यात्रियों को सहूलियत देने के लिए कुछ सेवाओं को ठेके पर दिया जा रहा है।केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को प्रश्नकाल के दौरान सदन को बताया कि एक अनुमान के तहत रेलवे को सुचारू रूप से चलाने के लिए अगले 12 वर्षों में 50 लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी। सरकार के लिए यह खर्च उठाना मुश्किल है इसलिए यह कदम उठाये जा रहे हैं।

गोयल ने कहा, हर दिन बेहतर सेवाओं और रेलवे सहूलियत FX क्या है? लाइन्स के लिए सदस्य एक नई मांग लेकर आते हैं। इन्हें पूरा करने के लिए अगले 12 साल के लिए 50 लाख करोड़ रुपये देना सरकार के लिए आसान नहीं है। बजट से जुड़ी कई समस्याएं होती हैं जिन्हें निपटाने के उपाय करने होते हैं।

यात्रियों की बढ़ती संख्या के लिए हजारों नई ट्रेनें शुरू करने और अधिक से अधिक निवेश की आवश्यकता है। ऐसे में अगर निजी निवेशक सरकार के नेतृत्व में इस क्षेत्र में पैसा निवेश करना चाहते हैं तो इसमें क्या गलत है। विभाग का स्वामित्व सरकार के पास ही रहेगा। इसे निजीकरण नहीं कहा जा सकता, सिर्फ कुछ सेवाओं को आउटसोर्स किया जा रहा है।

रेलवे कर्मियों पर नहीं पड़ेगा कोई प्रभाव

रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगाड़ी ने कहा, हम सिर्फ वाणिज्यिक और ऑन बोर्ड सेवाओं को निजी क्षेत्र से आउटसोर्स कर रहे हैं। स्वामित्व पूरी तरह से रेलवे का होगा और इससे रेलवे कर्मचारी किसी तरह से प्रभावित नहीं होंगे। निजी क्षेत्र के आने से रोजगार और बढ़ेंगे।

Paytm का करते हैं इस्तेमाल तो जरूर जान लें ये बातें, होगा हजारों का फायदा

Paytm पर आप मोबाइल-DTH रिचार्ज, मूवी, बस टिकट की बुकिंग के साथ-साथ शानदार डील्स भी पा सकते हैं.

Paytm पर आप मोबाइल-DTH रिचार्ज, मूवी, बस टिकट की बुकिंग के साथ-साथ शानदार डील्स भी पा सकते हैं.

Paytm पर आप मोबाइल-DTH रिचार्ज, मूवी, बस टिकट की बुकिंग के साथ-साथ शानदार डील्स भी पा सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated : January 10, 2019, 09:13 IST

Paytm का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है. बड़ी संख्या में लोग पेमेंट करने के लिए Paytm यूज कर रहे हैं. पैसे भेजने के साथ-साथ आप अपने यूटिलिटी बिल्स (बिजली, पानी, मोबाइल के बिल) का पेमेंट भी Paytm से कर सकते हैं. बिल पेमेंट पर Paytm आपको कैशबैक भी देता है. इसके अलावा, Paytm सहूलियत FX क्या है? पर आप मोबाइल-DTH रिचार्ज, मूवी, बस टिकट की बुकिंग के साथ-साथ शानदार डील्स भी पा सकते हैं. हम आपको बता रहे हैं Paytm की 5 बातें जो आपके लिए काफी फायदेमंद होंगी.

News18 Hindi

Paytm Payments सहूलियत FX क्या है? बैंक- Paytm का Payments बैंक बिना कोई ओपनिंग चार्ज (खाता खुलने में एक भी चार्ज नहीं लगता) और जीरो बैलेंस की सहूलियत के साथ सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देता है. खाताधारक अपने खाते में 1 लाख रुपये तक जमा कर सकता है और Rupay डेबिट कार्ड और रियल टाइम अपडेटेड पासबुक की सुविधा का लाभ उठा सकता है.

Paytm गोल्ड- Paytm के जरिए आप गोल्ड (सोने) में निवेश कर सकते हैं. Paytm की इस सुविधा में आप अपने बजट के हिसाब से गोल्ड खरीद सकते हैं. यानी, आप कितने भी पैसों का सोना खरीद सकते हैं. आप पब्लिक हॉलिडे (सार्वजनिक छुट्टियां) में भी सोने की खरीदारी और इसे बेचने का काम ऑनलाइन कर सकते हैं. आप अपने फोन से ही यह सारे काम कर सकते हैं.

News18 Hindi

Paytm मॉल- Paytm Mall में ब्रांड्स अपने प्रॉडक्ट्स बेचते हैं. इन प्रॉडक्ट्स पर तगड़ा डिस्काउंट दिया जाता है. इसके अलावा, ग्राहकों को कैशबैक भी मिलता है.

Paytm का प्रीपेड Forex कार्ड- Paytm प्रीपेड Forex कार्ड की भी सुविधा देता है, जो कि विदेश में आपका सफर आसान बनाता है. Paytm फॉरेक्स कैश की भी सुविधा देता है, जिसकी लिमिट 3,000 डॉलर है.

Food Wallet- Paytm का Food Wallet यूजर को साल भर शानदार ऑफर उपलब्ध कराता है. Paytm का Food Wallet इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और RBI के नॉर्म्स का पूरी तरह पालन करता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Hybrid Fund Investment: यदि आप रिस्क कम लेना चाहते हो तो बहेतर है हाइब्रिड फंड, राजीव गांधी इक्विटी स्कीम से लें टैक्स छूट का लाभ

hybrid equity-oriented Mutual Funds/MF, hybrid equity

हुत से निवेशक इक्विटी फंड (Equity Fund) में निवेश तो करना चाहते हैं, लेकिन रिस्क(Risk) नहीं लेना चाहते, ऐसे सहूलियत FX क्या है? उनको क्या करना चाहिए तो ऐसे आपको हाइब्रिड फंड (Hybrid Fund) निवेश करना बेहतर रहेगा। क्योंकि इन स्कीमो को निवेशकों की जरूरतों को ध्यान में रखकर कई हाइब्रिड स्कीम्स लांच किया जाता हैं। इन स्कीम्स में ग्रोथ और डिविडेंड, दोनों ऑप्शन होते हैं। जानकारों के मुताबिक निवेशकों को ग्रोथ ऑप्शन चुनना चाहिए। लेकिन आप नियमित अंतराल पर कैश चाहते हैं तो डिविडेंड ऑप्शन बेहतर होगा।

हर कोई जोखिम नही ले सकता है इसलिए जोखिमो से हिचकने वाले निवेशकों के लिए म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) हाउस हाइब्रिड फंड (House Hybrid Fund) का विकल्प का आप चुनाव कर सकते हो। हाइब्रिड की खास बात है कि यदि निवेशक इसमें तीन साल तक बने रहे, तो मूलधन को नुकसान पहुंचने की आशंका बेहद कम रहती है। हाइब्रिड स्किम्स इक्विटी (Hybrid Schemes Equity) में कम निवेश करने और इसके साथ अपने कंजर्वेटिव सहूलियत FX क्या है? एसेट एलोकेशन पर बने रहने की सहूलियत देती हैं। हाइब्रिड फंड्स आमतौर पर तीन या पांच साल में मैच्योर होते हैं। डेट कंपोनेंट के तहत अच्छी क्वॉलिटी के बॉन्ड्स होते हैं, जो स्कीम के मैच्योर होने से ऐन पहले मैच्योर होते हैं। तीन साल की स्कीम हो तो लगभग 80 प्रतिशत रकम बॉन्ड्स में इनवेस्ट होती है। इससे समय पूरा होने पर कैपिटल पर रिटर्न सुनिश्चित रहता है। शेष हिस्सा इक्विटी में लगाया जाता है।

क्या है हाइब्रिड फंड- (What is Hybrid Fund)
पहले समझने की बात है कि आखिर हाइब्रिड फंड क्या है। तो डेट और इक्विटी के संतुलित मिर्शण को हाइब्रिड फंड कहते हैं। कहने का तात्पर्य कि जब आप किसी म्यूचुअल फंड हाउस के जरिये निवेश का मन बनाते हैं, तो उसे आपको अपने निवेश के बारे में पोर्टफोलियो बताना होता है। पोर्टफोलियो का मतलब है कि आप किस-किस सेक्टर में निवेश करेंगे। आप डेट फंड में निवेश चाहते हैं, या इक्विटी फंड में या ईटीएफ या हाइब्रिड फंड में। जब आप अपनी म्यूचुअल फंड कंपनी को अपने पोर्टफोलियो में हाइब्रिड फंड का ऑप्शन देते हैं, तो इसका मतलब है कि आपने डेट और इक्विटी दोनों फंड में निवेश के लिए विकल्प चुना है। हाइब्रिड फंड में डेट और इक्विटी में इस तरह सहूलियत FX क्या है? निवेश किया जाता है कि जब तक स्कीम्स मैच्योर होती हैं, डेट वाला हिस्सा बढ़कर इतना हो सहूलियत FX क्या है? जाता सहूलियत FX क्या है? है कि इनवेस्टर को अपना मूल धन वापस मिल जाए और इक्विटी कंपोनेंट से एडिशनल रिटर्न मिले।

बॉस कटाना ऐम्प शृंखला – अपना हथियार चुने!

Boss Amp

आप शायद पहले से ही जानते हैं कि Boss सहूलियत FX क्या है? Katana Amps की रेंज कितनी प्रचलित है – इसका सबूत पूरे इंटरनेट पर है और दुनिया भर के यूज़र्ज़ के हाथों मैं दिखाई दे रहे है, क्योंकि 2016 में Katana ने कदम रखते ही, Amp की दुनिया में जैसे तूफान सा आ गया।

आप जो तय करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं वह है – कौनसा Katana आपके लिए सही होगा?

और इसका उत्तर न जानने में कोई शर्म की बात नहीं है। जैसे हमने पहला कहा, अपनी अपार लोकप्रियता के कारण और Katana Amps के परिवार की तेजी से विकास के कारण सात विशेष माडल्ज़ (जिसमें एक एक्सटेंशन स्पीकर भी शामिल हैं!) का निर्माण हुआ हैं।

तो आज, यह आर्टिकल मैं Boss Katana Amp रेंज के बारे में बात करेगा। हम देखेंगे कि हर कोई आपकी छोटी-छोटी जरूरतों के लिए किस तरह से छोटेसे Katana-मिनी से लेकर ऑल-न्यू Katana आर्टिस्ट जैसे फ्लैगशिप कॉम्बो का किस तरह से इस्तेमाल कर सकता है।

और आपकी सुविधा के लिए, आर्टिकल के अंत में, एक आसान तालिका/सूची है, जो पूरी रेंज की प्रमुख विशेषताओं की एक-दूसरे से तुलना करती है। तो जाओ और सीधे इसे छोड़ दो, सूची को पढ़ो – लेकिन वापस आओ और एक बार पूरे आर्टिकल को पढ़ो/सुनो।

रोलैंड कॉर्पोरेशन ऑस्ट्रेलिया के लिए एड लिम द्वारा योगदान दिया गया

रेटिंग: 4.77
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 592