शेयर बाजार में निवेश का प्लान बना रहे हैं तो आपको यह जरूर पता होना चाहिए

Demat Account क्या है ? इसका उपयोग जाने.

शेयर बाजार में जुड़ने से पहेल कोई प्रकार की जानकारी रखने होते है. जिसमे से एक Demat Account भी है.

यह शेयर मार्केट से जुड़े नाम है. जिसके बारे में आप इसमें जानेंगे.

बहुत से लोग इस बात से अनजान हैं कि डीमैट अकाउंट क्या है , इसका उपयोग क्या है , डीमैट खाता खोलने के लाभ क्या है इत्यादी.

शेयर मार्केट से जुड़ने से पहले Demat Account को खोलना जरुरी होता है.

तो अब इसके बारे में निचे में जानेंगे.

What Is Demat Account What Is The Use Of It, Demat Account Opening Online, Best Demat Account, Zerodha Demat Account, Demat Account Charges, dtechin

Demat Account क्या है ?

Demat का पूरा नाम Dematerialized होता है.

Demat Account एक ऐसा Account है जिसमे अपना ख़रीदा गया शेयर इलेक्ट्रॉनिक रूप में Store रहता है.

अगर आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते है , तो सबसे पहले अपना Demat Account खुलवाना पड़ेगा.

भारत में 1996 के Depository Act के बाद से डीमैट खाते की शुरुआत हुई थी

इसके पहले प्रत्येक शेयर के लिए एक सर्टिफिकेट होता था.

सर्टिफिकेट को संभाल कर रखना बहुत ही मुश्किल होता था.

गुम हो जाने का तथा चोरी हो जाने का भी खतरा रहता था.

इसी समस्याओ का समाधान के लिए Demat Account आया.

जहाँ पर हमारा शेयर पूर्ण सुरक्षित इलेक्ट्रॉनिक रूप में रहता है.

18 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति जिसके पास जरूरी कागजात है. वो Demat खाता खुलवा सकता है.

इसके लिए Pan Card

डीमैट खाता खोलने के लाभ

सभी अलग-अलग निवेश (ऋण या इक्विटी) को रखने के लिए एक स्थान है.

सभी प्रतिभूतियां इलेक्ट्रॉनिक रूप में होने से चोरी , क्षति या धोखाधड़ी का कोई खतरा नहीं है.

डीमैट खाते पर स्वचालित अपडेट मिलते हैं.

ट्रांसफर करने की प्रक्रिया बहुत आसान और जल्दी है

आपने इसमें जाना की डीमैट अकाउंट क्या है , इसका उपयोग क्या है , डीमैट खाता खोलने के लाभ क्या है इत्यादी.

हमें उम्मीद है की Demat Account के बारे में इसमें दिए गए जानकारी आप समझ गए होंगे.

अगर इस जानकारी से आपको कुछ सिखने को मिला हो तो कृपया इसे जरुर शेयर करे.

Demat Account Kya Hai, What Is Demat Account What Is The Use Of It, Demat Account Opening Online, Demat Account Login, Best Demat Account, Zerodha Demat Account, Demat Account Charges, Demat Account Sbi, What Is Demat Account In Hindi, What Is Demat Account In Upstox.

डीमैट खाता शुल्क , डिमैट अकाउंट क्या होता है , डीमैट अकाउंट के नुकसान , डीमैट अकाउंट कैसे खोलें.

शेयर बाजार में निवेश का प्लान बना रहे हैं तो आपको यह जरूर पता होना चाहिए

पिछले कुछ वर्षों के दौरान एक डीमैट खाता क्या है निवेश की प्रक्रिया (Investment Process) में भारी बदलाव देखा गया है। नई तकनीक (New Technology) के साथ चीजें अधिक डाइनामिक (Dynamic) हो गई हैं। आज, ई-कॉमर्स (E Commerce) धीरे-धीरे पसंदीदा विकल्प बन रहा है। शेयर मार्केट (Share Market) के लिए भी कुछ ऐसा ही है। आप हर दिन जो काम करते हैं, उन्हें देखते हुए इक्विटी या डेट (Equity or Debt) जैसे फाइनेंसेस को मैनेज करना परेशानियों से भरा हो सकता है। शुक्र है, डिपॉजिटरी एक्ट 1996 ने सभी के लिए अपनी फाइनेंशियल सिक्योरिटीज का मैनेजमेंट (Management Of Financial securities) केवल कुछ क्लिक जितना आसान बना दिया है।

if you are planning to invest in the stock market then you must know this

शेयर बाजार में निवेश का प्लान बना रहे हैं तो आपको यह जरूर पता होना चाहिए

डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक बैंक खाते की तरह होता है। अंतर सिर्फ इतना है कि यह इलेक्ट्रॉनिक रूप में नकदी के बजाय स्टॉक से जुड़ा है। डीमैट खाता अपने ऑपरेटिव फंक्शन के लिए डीमैटरियलाइजेशन के कंसेप्ट का उपयोग करता है। डीमैटरियलाइजेशन वह प्रक्रिया है जिसमें फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदल जाते हैं। मतलब, डीमैट खाता एक छत के नीचे निवेशक के सभी शेयरों को संग्रहीत करने के लिए तकनीक का उपयोग करता है। इनमें सरकारी सिक्योरिटी, म्यूचुअल फंड्स, शेयर, बॉन्ड एक डीमैट खाता क्या है आदि शामिल हैं।

डीमैट अकाउंट को ऑनलाइन कैसे खोल सकते हैं ?

सबसे पहले अपने पसंदीदा डिपॉजिटरी पार्टिसिपंट (Broker) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। वहां सरल लीड फॉर्म भरें, जिसमें पूछे गए अनुसार अपना नाम, फोन नंबर और निवास स्थान की जानकारी दें। फिर आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा। अगले फॉर्म को पाने के लिए ओटीपी दर्ज करें। अपने केवाईसी डिटेल्स जैसे जन्म तिथि, पैन कार्ड डिटेल्स, कॉन्टेक्ट डिटेल्स, बैंक अकाउंट डिटेल्स आदि भरें।

खुल गया आपका ​डीमैट अकाउंट

यह सब प्रक्रिया पूरी करते ही आपका डीमैट अकाउंट खुल गया है। इसके बाद आपको अपने ईमेल और मोबाइल पर डीमैट अकाउंट नंबर और इसके अन्य डिटेल्स प्राप्त हो जाएंगे। इसके बाद आप चाहे तो डीमैट अकाउंट खोलने वाली कंपनी के नंबर पर एक डीमैट खाता क्या है फोन करके शेयर मार्केट में ट्रेड कर सकते हैं। यदि आप चाहते हैं कि खुद ही ट्रेड करें तो आपके पास ट्रेडिंग के लिए लॉग इन और पासवर्ड आ जाएगा। इसका उपयोग कर आप खुद ही खरीद या बिक्री का आर्डर प्लेस कर पाएंगे।

कितने हो सकते हैं डीमैट अकाउंट?

एक निवेशक (Investor) के कई डीमैट अकाउंट (Dmat Account) हो सकते हैं। यह एक ही डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (Depository participants), या अलग-अलग डीपी के साथ भी हो सकते हैं। जब तक, निवेशक सभी अप्लिकेशंस के लिए आवश्यक केवाईसी डिटेल्स (KYC Deatils) प्रदान कर सकता है, तब तक वह आवेदक कई एक डीमैट खाता क्या है एक डीमैट खाता क्या है डीमैट अकाउंट संचालित (Operate) कर सकता है।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म. पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

शेयर बाजार लुभाता है और खोलना है डीमैट अकाउंट, यहां जानें इसकी एबीसी

इस सप्ताह के पहले दिन भारतीय शेयर बाजारों (Indian Stock Exchange) में तेजी का माहौल है। इससे पहले बीते शुक्रवार को भी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) का संवेदी सूचकांक (Index) एक हजार अंक से भी ज्यादा चढ़ कर बंद हुआ था। हालांकि, इससे पहले शेयर एक डीमैट खाता क्या है बाजार में उतार और चढ़ाव का दौर चल रहा है। तब भी इस समय कई अच्छे आईपीओ (IPO) आ रहे हैं। हाल ही में सरकारी कंपनी एलआईसी का आईपीओ (LIC IPO) आया था, जिसमें रिकार्ड संख्या में आवेदन मिले थे। आवेदकों में ज्यादातर खुदरा निवेशक (Retail Investor) थे। इनमें से ढेरों निवेशकों ने हाल ही में डीमैट (Demat Account) अकाउंट खुलवाया था।

stock market entices and has to open demat account, know its abc here

शेयर बाजार लुभाता है और खोलना है डीमैट अकाउंट, यहां जानें इसकी एबीसी

डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक बैंक खाते (Bank Account) की तरह होता है। अंतर सिर्फ इतना है कि यह इलेक्ट्रॉनिक रूप में नकदी के बजाय स्टॉक से जुड़ा है। डीमैट खाता अपने ऑपरेटिव फंक्शन के लिए डीमैटरियलाइजेशन के कंसेप्ट का इस्तेमाल करता है। डीमैटरियलाइजेशन वह प्रक्रिया है जिसमें फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित हो जाते हैं। हम कह सकते हैं कि डीमैट अकाउंट एक छत की तरह है जिसके नीचे निवेशक के सभी शेयरों को कलेक्ट करने के लिए तकनीक का उपयोग करता है। इनमें सरकारी सिक्योरिटी, म्यूचुअल फंड्स, शेयर, बॉन्ड आदि शामिल हैं।

समझदारी से चुनें ब्रोकर

आप ऐसे डिजिटल ब्रोकिंग फर्म (App or Web based digital broking firms) की तलाश करें जो सहज ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया, बेस्ट ब्रोकरेज चार्ज और वैल्यू-एडेड सेवाएं प्रदान करता है। कुछ ब्रोकरेज हाउसों के पास ट्रेड्स पर जीरो ब्रोकरेज चार्ज और दूसरों पर फ्लैट रेट्स हैं। ये दोनों फेक्टर आकर्षक हैं क्योंकि वे ट्रेडिंग करते समय आपको आवश्यक कॉस्ट-एडवांटेज प्रदान करते हैं। इसके अलावा, जब आप डिजिटल रूप से ट्रेड करने जा रहे हैं, यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि आपके पसंदीदा प्लेटफ़ॉर्म से कोई तकनीकी गड़बड़ियां नहीं हुई हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ऐसी कोई भी गड़बड़ आपके निवेश को संकट में डाल सकती है। ब्रोकरेज फर्म में आगे देखने के लिए इनडेप्थ रिसर्च और पर्सनलाइज्ड निवेश सिफारिशें भी प्रमुख विशेषताएं हैं।

बैंक भी देते हैं डीमैट अकाउंट की सुविधा

आपका जिस बैंक में खाता (Bank Account) है, सबसे पहले वहीं चेक कर सकते हैं। आज की तारीख में अधिकतर बैंक की सहायक कंपनी डीमैट अकाउंट (Demat Account) की सुविधा दे रहे हैं। यदि बैंक के पास ब्रोकरेज फर्म नहीं है तो वह किसी ब्रोकरेज फर्म से टाईअप करके अपने ग्राहकों को डीमैट अकाउंट की सुविधा दे देते हैं। बैंक के अलावा कुछ वॉलेट कंपनी भी इस तरह की सुविधा दे रही हैं।

पूरी करें कस्टमर ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया

सभी डिजिटल ब्रोकरेज फर्मों के पास ऑनलाइन कस्टमर ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया (Online Customer Onboarding Process) है। डिजिटल खाता खोलने का फॉर्म भरें और पहचान और पते के प्रमाण अपलोड करें। इन केवाईसी दस्तावेजों में पैन कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट इत्यादि शामिल हैं। ब्रोकरेज फर्म भी आपकी मुश्किलों का हल अपनी हेल्पलाइन के माध्यम से करने में आपकी सहायता करती हैं।

सत्यापन प्रक्रिया पूरी करें

आपके द्वारा प्रस्तुत क्रेडेंशियल्स को सत्यापित करने का काम एक एक्जीक्यूटिव को सौंपा जाएगा। यह एक सरल लेकिन महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो फोन कॉल या ब्रोकरेज फर्म के प्रतिनिधि से फिजिकल विजिट के माध्यम से किया जा सकता है। मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए टेली-वेरिफिकेशन की अत्यधिक संभावना है। कुछ ब्रोकरेज फर्म शुरुआती एप्लिकेशन से एक घंटे से भी कम समय में पूरी प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

अकाउंट डिटेल्स प्राप्त करें

एक बार सत्यापित (After Varification) हो जाने के बाद आपके खाते को आधिकारिक रूप से शेयर ट्रेडिंग (Share Trading) के लिए मंजूरी मिल जाएगी। आपको एक वेलकम किट प्राप्त होगी जिसमें अकाउंट डिटेल्स जैसे कि एक यूनिक आईडी और आपके खाते तक पहुंचने के लिए पासवर्ड होगा। आप शेयर बाजार में ऑनलाइन ट्रेडिंग (Online Trading) करने के लिए तैयार हैं।

पहले ट्रेडिंग से जुड़ी बातें जान लें

अंत में, यह आपका पहला ट्रेड करने का वक्त है! चूंकि आप ट्रेडिंग में नए हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप रेफरेंस मटेरियल के माध्यम से जाएं और ट्रेडिंग फंडामेंटल के वेबिनार में भाग लें। जरूरत पड़ने पर आप कई बैंक खातों को ट्रेडिंग खाते से लिंक भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आपको अपने टाइम-सेंसिटिव ट्रेड्स के लिए तुरंत टॉप-अप में मदद मिलती है। इस नए अकाउंट के साथ, आप निवेश की आदतों विकसित करने और बेहतर आरओआई की यात्रा पर निकले हैं। सुनिश्चित करें कि आप निवेश करते समय अनुशासित रहें और जब तक कि दुनिया लॉकडाउन से वापस आ जाए, अपने निवेश को बढ़ते देखें।

चार्जेस का भी रखें ध्यान

डीमैट अकाउंट खोलना आज की तारीख में काफी आकर्षक काम हो गया है। इसलिए इस क्षेत्र में ढेरों प्लेयर आ गए हैं। शुरूआत में जब डीमैट अकाउंट खुलने शुरू हुए थे तो चार्जेस काफी हाई थे। लेकिन अब कई कंपनियां जीरो फी पर डीमैट अकाउंट खोल रही हैं। ये कंपनियां सिर्फ ट्रेडिंग पर ही थोड़ा सा शुल्क वसूलती है। इस तरह से इनका काम इसी शुल्क से चल जाता है। इसलिए, किसी कंपनी के यहां अकाउंट खुलवाने से एक डीमैट खाता क्या है पहले इन जार्च की अच्छी तरह से तुलना अवश्य कर लें।

क्या होता है डीमैट खाता, क्या हैं इसके फायदे, जानें इसे खुलवाने की प्रक्रिया

डीमैट खाता आपको ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का लाभ उठाने में मदद करता है जहां आप एक स्टैंडर्डाइज्ड इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम पर अपने फाइनेंशियल सिक्योरिटी रखते हैं. बदलते दौर के साथ अब आम निवेशक भी शेयर बाजार का भी रुख कर रहे हैं और ई-कॉमर्स धीरे-धीरे पसंदीदा विकल्प बन रहा है. शेयर बाजार के लिए भी ऐसा ही है.
डिपॉजिटरी एक्ट 1996 के जरिए बाजार में निवेश को आसान और सुविधाजनक बनाने की दिशा में एक बड़ा बदलाव हुआ. इससे शेयरों या अन्य सिक्योरिटीज की फिजिकल कॉपी प्राप्त करने के बजाय उसे डिजिटल फॉर्म में एक डीमैट अकाउंट में रखने की सुविधा मिल गई.

बैंक खाते से कैसे अलग होता है डीमैट खातावैसे तो डीमैट अकाउंट और बैंक खाते में ज्यादा अंतर नहीं होता है लेकिन फिर भी असमानताएं भी हैं-

डीमैट खाता इलेक्ट्रॉनिक रूप में कैश की जगह स्टॉक से जुड़ा है.

डीमैट खाता अपने ऑपरेटिव फंक्शन के लिए डीमैटरियलाइजेशन के सिद्धांत का इस्तेमाल करता है.

डीमैटरियलाइजेशन में फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदल हो जाते हैं.

डीमैट खाता निवेशक के सभी शेयरों को एकत्रित करने के लिए तकनीक का उपयोग करता है.

पसंदीदा डिपॉजिटरी पार्टिसिपंट (ब्रोकर) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं.

सरल लीड फॉर्म भरें, जिसमें अपना नाम, फोन नंबर और निवास स्थान की जानकारी दें.

इसके बाद आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी मिलेगा.

अगले फॉर्म को पाने के लिए ओटीपी एक डीमैट खाता क्या है दर्ज करें. अपने केवाईसी डिटेल्स जैसे जन्म तिथि, पैन कार्ड डिटेल्स, कॉन्टेक्ट डिटेल्स, बैंक अकाउंट डिटेल्स आदि भरें.

आपका डीमैट अकाउंट अब खुल गया है. आपको एक डीमैट खाता क्या है अपने ईमेल और मोबाइल पर डीमैट अकाउंट नंबर जैसे डिटेल्स मिल जाएंगे.

यह याद रखें कि एक निवेशक के कई डीमैट खाते हो सकते हैं. यह एक ही डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स , या अलग-अलग डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स के साथ हो सकते हैं. निवेशक जब तक सभी एप्लिकेशंस के लिए जरूरी केवाईसी दे सकता है तब तक वह आवेदक कई डीमैट अकाउंट ऑपरेट कर सकता है.

Demat Account कैसे खोलें? यहां जानें प्रोसेस; Share Market में ट्रेडिंग करने के लिए है जरूरी

अगर आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने की इच्छा रखते हैं तो आपका डीमैट खाता होना जरूरी है। डीमैट खाते को बैंक वित्तीय संस्थान या ब्रोकर के साथ खाला जा सकता है। यह ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से खोला जा सकता है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। शेयर बाजार में निवेश और ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट खाता होना जरूरी है। अगर किसी व्यक्ति का डीमैट खाता नहीं है तो वह शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकता है। डीमैट खाता खोलने के लिए सबसे पहले डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) का चुनाव करें, जिसके साथ आप एक डीमैट खाता क्या है डीमैट खाता खोलना चाहते हैं। यह कोई बैंक, वित्तीय संस्थान या ब्रोकर हो सकता है। डीपी का चुनाव आदर्श रूप से ब्रोकरेज शुल्क और वार्षिक शुल्क आदि के आधार पर करना चाहिए।

डीमैट खाता कैसे खोलें?

डीपी से संपर्क करें और फिर डीमैट खाता खोलने का फॉर्म तथा केवाईसी फॉर्म जमा करें। इसके साथ, पैन कार्ड, निवास प्रमाण और आईडी प्रूफ की कॉपी देनी होगी। यहां पासपोर्ट साइज के फोटो भी देने होते हैं। सत्यापन प्रक्रिया के लिए ऑरिजनल दस्तावेज भी अपने पास रखें। यहां आपको लाभांश बैंक विवरण के लिए एक कैंसिल चेक भी देना होगा।

फिर आपको एक समझौते पर हस्ताक्षर करने होंगे, जिसमें डीमैट खाता रखने से जुड़े सभी नियमों, विनियमों और अधिकारों का उल्लेख होगा। इन्हें ध्यान से पढ़ें और अपने एक डीमैट खाता क्या है सभी संदेहों को दूर करने में संकोच न करें। जब इसे डीपी को प्रस्तुत किया जाता है, तो इस पर एक अधिकृत व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षर किए जाते हैं और इसकी एक प्रति आपको दी जाएगी।

जब खाता खोला जाता है, तो आपको डीपी से एक विशिष्ट ग्राहक आईडी प्राप्त होगी। यह, अन्य विवरणों के साथ, आपको अपने डीमैट खाते को ऑनलाइन एक्सेस करने में मदद करेगी। डीमैट खाता सिर्फ ऑफलाइन ही नहीं बल्कि ऑनलाइन भी खोला जा सकता है।

डीमैट खाता ऑनलाइन कैसे खोलें?

किसी भी डीपी के साथ डीमैट खाता खोलने के लिए ऑनलाइन भी आवेदन किया जा सकता है। आप अपने घर या दफ्तर में बैठे हुए सिर्फ कुछ ही क्लिक करके आसानी से ऑनलाइन डीमैट खाता खोल सकते हैं। इसके लिए सबसे एक डीमैट खाता क्या है पहले अपने चुने हुए डीपी की वेबसाइट पर जाएं।

डीपी की वेबसाइट पर जाकर 'ओपन डीमैट अकाउंट' टैब पर क्लिक करें और नाम, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, ओटीपी और शहर आदि की जानकारी भरें। इसके बाद डीमैट खाता खोलने की औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए डीपी द्वारा आपसे संपर्क किया जाएगा।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 200