Technical Analysis क्या है | What is Technical Analysis in Hindi

दोस्तों, हमें इससे पिछले लेखों में share/stock market की बारे में आधिक जानकारी दे चुके है. आज हम फिर से share market के दूसरे हिस्से (Technical analysis kya hai, What is Technical analysis in Hindi) के बारे में अच्छे से जानेंगे. इसमें हम जानेंगे की technical analysis क्या है,

Technical analysis को अच्छे से समझने के लिए किस बुक को पढ़ा जाये, स्टॉक मार्किट में सफल इन्वेस्टर बनने के लिए किस तरह से research करनी चाहिए, किस तरह पता लगाए की मार्किट किस तरफ जाने बाली है?

  1. किस कीमत पर share को खरीदा और बेचना चाहिए
  2. रिस्क कितना प्रतिशत है
  3. मुनाफा कितना हो सकता है
  4. शेयर का होल्डिंग पीरियड

टेक्निकल एनालिसिस (T.A) में बो ताकत है जिससे आपके इन सभी सवालों के जवाव मिल जाएँगे. इससे आप share और index दोनो पर नजर रख सकते है साथ ही मार्किट में घुसने का सही समय और निकलने का सही समय और रिस्क को देखते हुए सौदे को कब ख़त्म किया जाय. रिसर्च करने में उपयोग की गई तकनीकों की तरह ही टेक्निकल एनालिसिस की अपनी विशेषताएं है.

टेक्निकल एनालिसिस क्या है (What is Technical analysis in Hindi)

हम उदहारण को लेकर समझते है –

मान लीजिये टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? की आप किसी देश में छुट्टी मना रह है, और उस देश में मौसम, रहन-सहन और खान-पान आपके लिए बिलकुल नया है. जब आप पहले दिन काफी अधिक घूम लेते है तो आपको काफी भूक भी लगने लगती है. इसके बाद आपको पास में एक जगह दिखी, जहाँ पर काफी खाने पीने की महशूर दुकाने मिली.

आप उनका सुआद लेने का फैसला लेते है और वह उन दुकानों पर अलग-अलग तरह की खाने पीने की मजेदार चीजें दिखीं. इसके बाद में आपको यह समझ नहीं आ रहा की क्या खाया जाये? और वहां पर लोगों से भी नहीं पूछ सकते है क्योकि आप उनकी भाषा नहीं जानते है इस स्थति में आप क्या करेंगे? क्या वो चीजे खाएंगे?

What is Technical analysis in Hindi (विकल्प 1, विकल्प 2)

विकल्प 1: आप सबसे पहली दुकान पर जाएंगे और देखेंगे कि आखीर वह क्या पका रहा है और पकाने के लिए किन – किन पदार्थो को डाल रहा है, वह किस तरह पका रहा है, और क्या पाता उसे आप थोड़ा सा चखकर भी देखेंगे. इसके बाद आप तय कर पाएंगे कि यह चीज आपके खाने लायक है या नहीं !

इसी तरह आप सभी दुकान चलाने वालों के साथ करेंगे तब आप अपनी मन पसंद जगह को ढूंढ पाएंगे और अपने मन पसंदीदा चीज खा सकेंगे. यह करने से आपको ये फायदा है की आप पूरी तरह से संतुष्ट रहंगे कि आप क्या खा रह है इसका मतलब ये हुआ की इस चीज को खाना के लिए आपने खुद ही research की हुई है.

लेकिन समस्या यह होती है जब 100 दुकाने या फिर उससे भी ज्यादा दुकाने है, ऐसे में आप सभी दुकानों को अकेले chack नहीं कर पाएंगे. अधिक दुकाने होने पर काफी दिक्कत होगी. समय की कमी, इससे भी आपको समस्या हो सकती है क्योकि आपके पास इतना समय नहीं है जो सभी दुकानों पर जा सके. ऐसे में तो यही संभव है की आपकी मनपसंद चीज ही छुट जाए.

विकल्प 2 : सबसे पहले आपको मार्किट में बीचो-बिच खड़े होकर नजर डालनी है. और ये देखने की कोशिश करे की किस दुकान पर सबसे ज्यादा भीड़ है और अच्छी बिक्री हो रही है. इसी प्रकार आप अनुमान लगा सकते है की उस दुकान पर अच्छा खाना मिल रहा है इसलिए इतनी भीड़ है.

इसी अनुमान लगाने की बजह से आप उस दुकान पर जाकर अच्छा खाना खायेंगे. इस तरह से आपको ज्यादा संभावना होगी की आपको बाजार का सबसे अच्छा खाना मिल सके. इससे ये फायदा होता है की आप अच्छी दुकान को जल्दी खोज सकेंगे. और सबसे ज्यादा भीड़ वाली दुकान पर जाकर अच्छा खाना पाने की उम्मीद कर सकते है.

थोड़ी दिक्कत ये है की क्या पता जिस दूकान पर अधिक भीड़ हो, उनकी पसंद ही गलत है. शायद आपको हर बार खाने के लिए अच्छा खाना ना मिले. आपको इन दोनों बिकल्प को पढ़कर ये समझ में आ गया होगा की पहला विकल्प फंडामेंटल एनालिसिस की तरह है, जिसमे टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? आपको ही कंपनियो के बारे में गहराई से research करनी होती है.

टेक्निकल एनालिसिस-

यह फंडामेंटल एनालिसिस से काफी अलग है टेक्निकल एनालिसिस में इन्वेस्टर/ट्रेडर को मौका तलाश करना होता है की मार्किट इस समय किधर जा रही है. मार्किट क्या चाहती है? टेक्निकल एनालिसिस की तकनीक को मार्किट में सभी इन्वेस्टर/ट्रेडर पसंद करते हुए ट्रेड करते है. शेयर मार्किट में (chart/graph) को देख के ही सभी ट्रेडर/इन्वेस्टर की पसंद को पता कर सकते है.

जब चार्ट में कोई pattern बनता है तब उस pattern को देखकर मार्किट का संकेत को समझ सकते है. टेक्निकल एनालिस्ट (Technical Analyst) का काम ये होता है कि वो इस पैटर्न को समझे और अपना नजरिया बनाए. (Technical analysis kya hai? What is Technical analysis in Hindi)

टेक्निकल एनालिसिस पर कितना भरोसा कर सकते है?

जितने भी नय ट्रेडर होते है उनको लगता है की टेक्निकल एनालिसिस से आधिक रूपए कमाएंगे. लेकिन सच्चाई ये है ना तो इसे करना इतना आसान है और ना ही कम समय में अधिक पैसा कमाने का रास्ता है. यह बात ठीक है यदि टेक्निकल एनालिसिस को ठीक से समझ कर किया जाए तो इससे कम समय में भी बढ़ा मुनाफा कमा सकते है लेकिन इसे सिखने के लिए अधिक महनत करनी होगी.

यदि technical analysis की मदद से कम समय में अधिक पैसा कमाया जा सकता है तो इसी से अधिक नुक्सान भी हो जाता है क्योकि मार्किट में अधिक पैसा डुबाने के बाद आमतौर पर नुकसान का सारा इल्जाम टेक्निकल एनालिसिस पर डाल देते है. वो लोग ट्रेडर की गलती को नहीं देखते है.

टेक्निकल एनालिसिस के दोवारा ट्रेड लेने से पहले अपनी उम्मीद को रखे और अच्छे से समझ कर ट्रेडिंग करे.( Technical analysis kya hai? Technical analysis book in hindi pdf download)

टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है?

  1. ट्रेड (Trader)- टेक्निकल एनालिसिस का सबसे अच्छा उपयोग है- short term सौदा करने के लिए. क्योकि (TA) टेक्निकल एनालिसिस long term investment के लिए ठीक नहीं है.
  2. लॉन्ग टर्म के लिए इन्वेस्टर को फंडामेंटल एनालिसिस का उपयोग करना सही है. यदि आप फंडामेंटल एनालिसिस की मदद से इन्वेस्ट करते हो तो खरीदने का सही समय (entry point) और निकलने के सही समय (exit point) के लिए टेक्निकल एनालिसिस की मदद ले सकते है.
  3. प्रतेक सौदे से मुनाफा- Technical analysis के दोवारा की गय सौदे कम समय के लिए होते है. इसलिए अधिक मुनाफे पाने की उम्मीद ना करे. TA में तभी अच्छा मुनाफा कमा सकते है जब आप बार-बार छोटे-छोटे सौदे (trade) करे और अच्छा मुनाफा कमाए.

Holding Period- TA टेक्निकल एनालिसिस के दोवारा किय गय सौदे कुछ मिनटों से लेकर घंटो या हफ़्तों तक ही होता है इससे ज्यादा नहीं!

Risk- अच्छा ट्रेडर हमेशा अच्छे मौके की तलाश करता है, लेकिन हर बार ठीक सौदा नहीं लगता है और ट्रेडर नुकसान उठाता है. कुछ ट्रेडर ऐसे होते है जो चल रह नुकसान में मुनाफा में बदलाव की उम्मीद करते है. लेकिन ध्यान रह TA पर आधारित सौदे शार्ट term होते है, इसलिए कम नुक्सान होने पर ही मार्किट से बहार निकलने की कोशिश करे.

Technical Analysis Vs. Fundamental Analysis in Hindi | टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस बीच का अंतर

Technical Analysis Vs. Fundamental Analysis

यह एक बड़ा मुद्दा है और इन दोनों के उपयोग कर्ता के बिच बहोत बार इस विषय में तनातनी होती रहती है की कौन बहेतर है| जब भी किसी दो वस्तुओ में अंतर देखना हो तब सबसे पहले उन वस्तु या विषय को अच्छे से समजना चाहिए| Technical Analysis और Fundamental Analysis के बिच में अंतर समजने के लिए हमे Technical Analysis और Fundamental Analysis को अच्छे से समजना पड़ेंगे|

What is Technical Analysis in Hindi?

टेक्निकल एनालिसिस(Technical Analysis in Hindi) को आसान भाषा में समझे तो “बाजार में घटने वाली घटनाओं के आधार पर या शेयर के भूतकाल के भाव और वॉल्यूम का एनालिसिस करके भविष्य में शेयर का मूल्य तय करने की एक प्रक्रिया को Technical Analysis कहा जाता है| “ Technical Analysis के बारेमे अधिक पढने के लिए यहाँ क्लीक करे|

What is Fundamental Analysis in Hindi?

फंडामेंटल एनालिसिस में किसी भी कंपनी की बैलेंस शीट देखकर उसका भविष्य देखा जाता है| कंपनी के द्वारा अच्छा या बुरा प्रदर्शन करने पर उसके शेयर के प्राइस पर उसकी असर देखने को मिलती है| यहाँ हमने आपसे फंडामेंटल एनालिसिस की बारे में सबकुछ जानकारी दी है जिसे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे|

Technical Analysis और Fundamental Analysis के बिच में अंतर

Technical AnalysisFundamental Analysis
टेक्निकल एनालिसिस माँ शेयर का भाव उसमे होने वाले उतर चढ़ाव के माध्यम से किया जाता है|फंडामेंटल एनालिसिस में शेयर का भाव शेयर की Intrinsic value के आधार पर किया जाता है|
टेक्निकल एनालिस्ट स्टॉक खरीदने के लिए टेक्निकल एनालिसिस करने के टूल को देखता है और उसके माध्यम से वह तय करता है की शेयर को कब खरीदना चाहिए|फंडामेंटल एनालिस्ट स्टॉक को खरीदने से पहले कंपनी के सभी फंडामेंटल को देखता है उसके अलावा वह सेक्टर और कंपनी के मनाग्मेंट को भी देखता है|
टेक्निकल एनालिस्ट स्टॉक चार्ट का उपयोग पैटर्न और रुझानों की पहचान करने के लिए करते हैं जो यह सुझाव देते हैं कि भविष्य में स्टॉक क्या करेगा।फंडामेंटल एनालिस्ट द्वारा कमाई, खर्च, संपत्ति और देनदारियां सभी जांच करते है।

यहाँ हमने आपसे Technical Analysis Vs. Fundamental Analysis in Hindi (टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस बीच का अंतर) टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? क्या है उस पर जानकारी दी है|हमें आशा है की आपको यहाँ दी गयी जानकारी पसंद आई होगी

मौलिक और तकनीकी विश्लेषण के बीच अंतर

जब आप निर्णय लेते हैंनिवेश स्टॉक मेंमंडी, यह बिल्कुल स्पष्ट है कि आपको शोध करने और जितना हो सके तैयार रहने के लिए कहा जाएगा, है ना? जबकि आप इस बाजार की तकनीकी में तल्लीन होंगे, आप निश्चित रूप से दो शर्तों के साथ आएंगे -मौलिक विश्लेषण तथातकनीकी विश्लेषण.

इसे सरल शब्दों में कहें तो ये दो सामान्य तरीके हैं जिनका उपयोग निवेशक अपने स्टॉक का आकलन करने के लिए करते हैं। निवेशकों को सोच-समझकर निर्णय लेने में मदद करने में ये दोनों महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि ये दो अलग-अलग रणनीतियां हैं; हालांकि, अक्सर, उनका उपयोग एक ही लक्ष्य के लिए किया जाता है, जो भविष्य में स्टॉक के विकास के रुझान पर शोध और भविष्यवाणी कर रहा है।

इस पोस्ट में, आइए मौलिक और तकनीकी विश्लेषण रणनीतियों के बीच पर्याप्त अंतर का पता लगाएं और वे कैसे लाभप्रद बन सकते हैं।

Difference Between Fundamental and Technical Analysis

मौलिक और तकनीकी विश्लेषण को परिभाषित करना

मौलिक विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण के बीच के अंतर को गहराई से जानने से पहले, आइए जानें कि वास्तविकता में इनका क्या अर्थ है।

मौलिक विश्लेषण क्या है?

मौलिक विश्लेषण एक ऐसी रणनीति है जिसका उपयोग उन मूलभूत कारकों की व्यापक जांच के लिए किया जाता है जो किसी कंपनी, उद्योग और संपूर्ण के हित को प्रभावित कर सकते हैं।अर्थव्यवस्था. इस विश्लेषण का उपयोग आकलन करने के लिए किया जाता हैआंतरिक मूल्य वित्तीय, आर्थिक और अन्य कारकों (मात्रात्मक और गुणात्मक दोनों) की गणना करके किसी स्टॉक या शेयर की संभावनाओं को समझने के लिए जहां शेयर का मूल्य मौजूदा बाजार मूल्य से भिन्न होता है।

यदि आप इस विश्लेषण को चुन रहे हैं, तो आपको निष्पादित करना होगा:

  • आर्थिक विश्लेषण
  • उद्योग विश्लेषण
  • कंपनी विश्लेषण

तकनीकी विश्लेषण क्या है?

दूसरी ओर, तकनीकी विश्लेषण, एक पद्धति है जो किसी शेयर या बाजार में सक्रिय शेयर की भविष्य की कीमत की भविष्यवाणी करने में मदद करती है। यह सभी भविष्यवाणी स्टॉक के पिछले प्रदर्शन के आंकड़ों पर आधारित है।

और, इस विशिष्ट उद्देश्य के लिए, स्टॉक के मूल्य परिवर्तन को यह समझने के लिए सुनिश्चित किया जाता है कि आने वाले दिनों में मूल्य कैसे बदलेगा। यदि तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कर रहे हैं, तो तीन सुनहरे नियम हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना होगा, जैसे:

  • कीमतोंछूट हर जानकारी जो जनता के लिए उपलब्ध है
  • मूल्य में उतार-चढ़ाव यादृच्छिक नहीं होगा, और तकनीकी उपकरणों की मदद से कीमत के कार्यों के पीछे के रुझान को लागू किया जा सकता है
  • मूल्य रुझान खुद को दोहरा सकते हैं

मौलिक विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण के बीच महत्वपूर्ण अंतर:

आप बुनियादी विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण के अंतर को आसानी से निकाल सकते हैंआधार नीचे दिए गए औचित्य के बारे में:

मौलिक विश्लेषण सुरक्षा का आकलन करने का एक तरीका है जिससे दीर्घकालिक निवेश के अवसरों के लिए इसके आंतरिक मूल्य को समझा जा सके। इसके विपरीत, तकनीकी विश्लेषण वर्तमान के साथ-साथ पिछली कीमत और लेन-देन की मात्रा के आधार पर सुरक्षा की भविष्य की कीमत का मूल्यांकन और भविष्यवाणी करने का एक तरीका है। यह भी यह समझने का एक महत्वपूर्ण तरीका है कि भविष्य में स्टॉक कैसे टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? काम करेगा।

शॉर्ट टर्म ट्रेडों के लिए उपयोग किए जाने वाले तकनीकी विश्लेषण की तुलना में, मौलिक विश्लेषण स्टॉक का विश्लेषण करने के लिए अधिक विस्तारित अवधि का उपयोग करता है। इस प्रकार, यह रणनीति ऐसे निवेशकों द्वारा एकीकृत की जाती है जो उन शेयरों में निवेश करना चाहते हैं जिनकी कुछ वर्षों में वृद्धि हुई मूल्य होने की अधिक संभावना है।

एक और महत्वपूर्ण मौलिक और तकनीकी विश्लेषण अंतर है, जबकि मौलिक विश्लेषण में उपलब्ध आंकड़ों और सूचना मूल्यांकन के आधार पर निर्णय लिए जाते हैं; तकनीकी विश्लेषण निवेशकों को शेयर की कीमत और बाजार के रुझान को ध्यान में रखकर निर्णय लेने की अनुमति देता है।

तकनीकी विश्लेषण केवल पिछले डेटा का संबंध है और मूल्य आंदोलनों और चार्ट पर आधारित है; हालांकि, मौलिक विश्लेषण अतीत और वर्तमान डेटा दोनों पर केंद्रित है और वित्तीय पर निर्भर हैबयान.

वित्तीय विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण के बीच अंतर के साथ आगे बढ़ते हुए यह है कि मौलिक विश्लेषण में, आप स्टॉक के आंतरिक मूल्य का आकलन कर सकते हैं।बैलेंस शीट,आय बयान, मुनाफे का अंतर,नकदी प्रवाह बयान, कीमत करने के लिएआय अनुपात, इक्विटी पर रिटर्न, और बहुत कुछ। लेकिन, तकनीकी विश्लेषण में, निवेशकों को केवल रिवर्स पैटर्न और निरंतरता पैटर्न, तकनीकी संकेतक, मूल्य क्रियाओं, समर्थन और प्रतिरोध जैसे चार्ट पैटर्न पर निर्भर रहना पड़ता है।

निष्कर्ष

यदि आप अभी भी सोच रहे हैं कि तकनीकी विश्लेषण निवेश कार्यक्रम में मौलिक विश्लेषण से कैसे भिन्न है, तो जान लें कि मौलिक विश्लेषण निवेशकों को स्टॉक खरीदने में मदद करता है जब इसका बाजार मूल्य इसके आंतरिक मूल्य से कम होता है। हालांकि, तकनीकी विश्लेषण निवेशकों को शेयरों को उच्च कीमत पर बेचने की उम्मीद होने पर खरीदने की अनुमति देता है। अंत में, आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली रणनीति के बावजूद, सुनिश्चित करें कि आप दोनों के फायदे और नुकसान से अच्छी तरह वाकिफ हैं, उसके बाद ही निर्णय लेने के लिए आगे बढ़ें।

फंडामेंटल एनालिसिस का परिचय

1.1 संक्षिप्त विवरण

किसी भी बिज़नेस को समझने के लिए फ़ंडामेंटल एनालिसिस का इस्तेमाल किया जाता है। अगर कोई निवेशक लम्बे समय के लिए बाज़ार में निवेश करना चाहता है तो उसको उस बिज़नेस को ठीक से समझना चाहिए जिसमें निवेश कर रहा है। फ़ंडामेंटल एनालिसिस बिज़नेस को कई तरफ से देखने और समझने के इसी काम में मदद करती है। निवेशक के लिए ये ज़रूरी है कि वो बाजार के हर दिन के शोरगुल से अलग हट कर बिज़नेस के कामकाज पर नज़र डाले। फ़ंडामेंटल तौर पर मज़बूत कंपनियों के शेयर की क़ीमत समय के साथ बढ़ती है और निवेशक को फ़ायदा होता है।

भारतीय बाज़ार में ऐसे कई उदाहरण हैं जैसे इनफ़ोसिस , TCS, पेज इंडस्ट्री , आयशर मोटर्स , बॉश इंडिया , नेस्ले इंडिया , TTK प्रेस्टीज आदि। इनमें से हर कंपनी ने दस साल से ज़्यादा तक औसतन 20% से ज़्यादा का कम्पाउंड वार्षिक रिटर्न ( CAGR) दिया है। आप इसे ऐसे समझ सकते हैं कि इनमें पैसा लगाने वाले हर निवेशक का पैसा 3.5 साल में दोगुना हो रहा था। CAGR रिटर्न जितना ज़्यादा होगा आपकी पूँजी उतनी ही तेज़ी से बढ़ेगी। बॉश इंडिया जैसी कुछ कंपनियों ने तो 30% तक का CAGR दिया है। तो अब आपको समझ आ गया होगा कि फ़ंडामेंटल तौर पर मज़बूत कंपनियों में निवेश करके कितनी तेज़ी से और कितना ज़्यादा पैसा कमाया जा सकता है ।

नीचे दिए गए बॉश इंडिया , आयशर मोटर्स और TCS लिमिटेड के चार्ट को देख कर आप अन्दाज़ा लगा सकते हैं कि लम्बे समय में सम्पत्ति कैसे बढ़ती है। याद रहे कि भारतीय बाज़ार के कई उदाहरणों में से ये सिर्फ़ तीन उदाहरण हैं।

आपको लग सकता है कि मैं सिर्फ़ अच्छे-अच्छे चार्ट दिखा रहा हूँ। आप सोच रहे होंगे कि सुज़लॉन एनर्जी , रिलायंस पावर और स्टर्लिंग बॉयोटेक के चार्ट कैसे दिखेंगे। इनको भी देखिए।


पैसे डुबाने वाले बहुत सारे उदाहरणों में से ये सिर्फ़ तीन हैं।

पैसा कमाने के लिए ये ज़रूरी है कि आप कमाई कराने वाली और नुक़सान कराने वाली कंपनियों के फ़र्क़ को पहचानें। कमाई कराने वाली हर कंपनी में कुछ गुण होते हैं जो उनको अलग से दिखाते हैं। इसी तरह पैसा डुबाने वाली कंपनियों की भी कुछ ख़ास पहचान होती है और अच्छा निवेशक उसे पहचान लेता है।

फ़ंडामेंटल एनालिसिस वो तकनीक है जो आपको सही कंपनी को पहचान कर लम्बे समय के निवेश के लिए भरोसा देती है।

1.2- क्या मैं फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बन सकता हूँ?


आप बिलकुल बन सकते हैं। ये एक ग़लतफ़हमी है कि सिर्फ़ चार्टर्ड अकाउंटंट या कॉमर्स के टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? बैकग्राउंड वाले लोग ही अच्छे फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बन सकते हैं। एक अच्छा फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बनने के लिए आपको बस कुछ चीज़ें सीखनी होंगी। :

  1. वित्तीय स्टेटमेंट को समझना
  2. हर बिज़नेस को उसकी इंडस्ट्री के परिप्रेक्ष्य के साथ समझना होगा
  3. ज़रूरी गणित को जानना होगा

इस अध्याय में हम ऊपर की लिस्ट में से पहली दो चीज़ों को सीखेंगे जिससे हमें फ़ंडामेंटल एनालिसिस आ सके।

1.3 – मुझे टेक्निकल एनालिसिस आती है, फंडामेंटल एनालिसिस समझने की क्या जरुरत है?

टेक्निकल एनालिसिस आपको छोटे फ़ायदे दिलाती है। ये आपको बाज़ार में एंट्री और एग्ज़िट का सही समय बताती है। लेकिन ये सम्पत्ति बढ़ाने का सही तरीका नहीं है। आप अमीर तभी बन सकते हैं जब आप अच्छा लांग टर्म निवेश करें। वैसे अच्छा ये होगा कि आप टेक्निकल ऐनालिसिस और फ़ंडामेंटल ऐनालिसिस दोनों को इस्तेमाल करें। इसे समझने के लिए एक बार फिर से आयशर मोटर्स के चार्ट पर नज़र डालते हैं।

मान लीजिए एक निवेशक आयशर मोटर्स को फंडामेंटल तौर पर मजबूत शेयर मानकर उस में निवेश करता है। उसने 2006 में कंपनी के शेयर में पैसे लगाए , जैसा कि आप चार्ट में देख सकते हैं कि 2006 से 2010 के बीच में स्टॉक ने कोई खास पैसे नहीं बनाए। शेयर में तेजी 2010 के बाद ही शुरू हुई। इसका यह भी मतलब हुआ कि फंडामेंटल एनालिसिस के आधार पर किए गए इस निवेश में आयशर मोटर्स ने निवेशक को अच्छा रिटर्न नहीं दिया। 2006 से 2010 के बीच इस निवेशक ने अगर छोटे-छोटे ट्रेड किए होते तो उसको ज्यादा फायदा हो सकता था। टेक्निकल एनालिसिस इस तरह के छोटे सौदों के लिए फायदेमंद होता है । इसीलिए आपको टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस का इस्तेमाल साथ – साथ करना चाहिए। इसी पर आधारित है पैसे निवेश करने की एक महत्वपूर्ण रणनीति जिसको कोर सैटेलाइट स्ट्रैटेजी ( The Core Satellite Strategy ) कहते हैं।

मान लीजिए एक निवेशक के पास ₹500 , 000 हैं वह इसको दो हिस्सों में बांटता है उदाहरण के तौर पर 60% और 40% के अनुपात में। इस राशि का 60% यानी ₹300 , 000 वह निवेश करता है लंबी अवधि के लिए और इसके लिए वह फंडामेंटल तौर टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस में क्या अंतर है? पर मजबूत कंपनी ढूंढता है। ₹300,000 का यह निवेश उसका कोर पोर्टफोलियो बनता है। आप उम्मीद कर सकते हैं कि कोर पोर्टफोलियो कम से कम 12 से 15% CAGR के आधार पर हर साल बढ़ेगा। बाकी बचा हुआ 40% पैसा यानी ₹200,000 छोटी अवधि के ट्रेड में इस्तेमाल किए जा सकते हैं और इसके लिए टेक्निकल एनालिसिस तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे सैटेलाइट पोर्टफोलियो कहते हैं और इसमें भी 10 से 12% के रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है।

1.4 फंडामेंटल एनालिसिस के टूल्स यानी उपकरण

फंडामेंटल एनालिसिस के लिए इस्तेमाल की जाने वाले टूल्स बहुत ही साधारण होते हैं जो कि सबके लिए मुफ्त में उपलब्ध हैं। इसके लिए आपको चाहिए :

  1. कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट – फंडामेंटल एनालिसिस के लिए आपको जो भी सूचनाएं चाहिए वह कंपनी की एनुअल रिपोर्ट यानी वार्षिक रिपोर्ट में होती हैं आप इसे कंपनी के वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं।
  2. इंडस्ट्री से जुड़ा डेटा – यह जानने के लिए कि कंपनी कैसा काम कर रही है आपको इंडस्ट्री से जुड़ा हुआ डेटा भी चाहिए। यह डेटा भी मुफ्त उपलब्ध होता है। इसके लिए आपको उस इंडस्ट्री एसोसिएशन यानी संगठन की वेबसाइट पर जाना होता है।
  3. समाचार या खबरों पर नज़र – हर दिन की खबर आपको कंपनी के बारे में , इंडस्ट्री के बारे में और अर्थव्यवस्था के बारे में जानकारी देती रहती है। एक अच्छा समाचार पत्र या न्यूज़ चैनल आपके लिए काम आ सकता है।
  4. माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल ( MS Excel ) – हालांकि ये मुफ्त नहीं है लेकिन यह आपके फंडामेंटल एनालिसिस की गणनाओं के लिए काफी जरूरी है।

इन चार टूल्स यानी उपकरण की मदद से आप फंडामेंटल एनालिसिस कर सकते हैं और यह किसी भी दूसरे फंडामेंटल एनालिस्ट की एनालिसिस के मुकाबले कम नहीं होगा। बड़ी-बड़ी कंपनियों के रिसर्च डिपार्टमेंट भी ऐसे ही काम करते हैं और उनकी भी कोशिश होती है कि उनकी रिसर्च सीधी सरल और तर्कसंगत हो।

रेटिंग: 4.38
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 409