ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

Zerodha, Upstox, Angel Broking और Groww, कौन सी है सबसे बेहतर Trading App-

अगर आप स्टॉक मार्केट ( STOCK TRADING) में ट्रेडिंग करने की तैयारी शुरू करने जा रहे हैं तो यह वीडियो आपके लिए बहुत खास होने वाला है. इस वीडियो में हम आपको बताएंगे देश की चार बड़ी ट्रेडिंग एप्स(TRADING APPS) में से सबसे बेहतर कौन कौन सी है .यह चारों ऐप (zerodha)डिस्काउंट ब्रोकरेज के ऊपर काम करती हैं , इसके अंदर आपको ट्रेडिंग करने के लिए ज्यादा ब्रोकरेज नहीं चुकानी पड़ती(angle broking) .इन चारों में से कौन सी ऐप ज्यादा फायदेमंद है और किसके कितने हैं charges जानने के लिए इस वीडियो को देखें.

Cryptocurrency : क्या होता है क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, इसपर ट्रेडिंग के लिए कैसे खोलते हैं अकाउंट? जानें सबकुछ

Cryptocurrency Exchange क्रिप्टो इकोसिस्टम का बहुत ही अहम हिस्सा है. भारत में भी बहुत से क्रिप्टो एक्सचेंज काम करते हैं, हम आपको बता रहे हैं कि ये कैसे काम करते हैं और इनके साथ एक ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोला जा सकता है.

Cryptocurrency : क्या होता है क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, इसपर ट्रेडिंग के लिए कैसे खोलते हैं अकाउंट? जानें सबकुछ

Cryptocurrency Exchange : क्रिप्टो एक्सचेंज किसी ब्रोकरेज फर्म की तरह होते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट (Cryptocurrency Market) ने पिछले कुछ सालों में जबरदस्त तेजी से सुर्खियां हासिल की हैं, यहां तक कि जो लोग वर्चुअल करेंसी के कॉन्सेप्ट को लेकर नाक-भौं सिकोड़ते हैं, वो भी एक बार इसे देखे-जाने बिना नहीं रह पा रहे. सबसे बड़ी बात कि बहुत कम देश ऐसे हैं, जहां पिछले कुछ सालों में क्रिप्टो को उतनी पॉपुलैरिटी और ग्रोथ मिली है, जितनी इसे भारत में मिली (Cryptocurrency in India) है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने क्रिप्टो को लेकर 'चिंताएं जताई थीं', लेकिन इसके बावजूद देश में क्रिप्टो का बाजार बड़ा ही हुआ है, खासकर पिछले एक साल में. लेकिन, लेकिन. हमें इसकी ग्रोथ और स्पीड को देखकर ही निवेश करना नहीं शुरू कर देना चाहिए, हमें इस बाजार के हर पहलू को समझना चाहिए. और इसी क्रम में हम इस लेख में आपको क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज (Cryptocurrency Exchange) के बारे में बता रहे हैं, जो कि क्रिप्टो इकोसिस्टम का एक बहुत ही अहम हिस्सा है.

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है?

यह भी पढ़ें

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म होता है, जहां क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग होती है. ट्रेडिंग में क्रिप्टो को दूसरे किसी असेट (यानी या तो कोई दूसरा क्रिप्टो कॉइन या टोकन, या फिर फ्लैट करेंसी यानी रुपया, डॉलर वगैरह) की खरीद-बिक्री के लिए इस्तेमाल किया जाता है. क्रिप्टो एक्सचेंज खरीददार और विक्रेता के बीच में इंटरमीडियरी यानी मध्यस्थ की तरह काम करते हैं. इनकी आय के स्रोत कमीशन और ट्रांजैक्शन फीस होती हैं.

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज काम कैसे करता है?

एक क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज किसी ब्रोकरेज फर्म की तरह काम करता है, यानी यह बायर और सेलर के बीच का माध्यम होता है. किसी एक्सचेंज के हिसाब से निवेशक पेमेंट के किसी भी माध्यम जैसे डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, कार्ड ट्रांजैक्शन, यूपीआई वगैरह से इसपर अपना पैसा डिपॉजिट कर सकते हैं, ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें जिसे वहां से क्रिप्टो कॉइन या टोकन खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. यह सुविधा उपलब्ध कराने के बदले निवेशक को क्रिप्टो एक्सचेंज को एक फीस देनी होती है.

bitcoin

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलते हैं?

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के लिए ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें ट्रेडिंग अकाउंट खोलना बहुत आसान है. लेकिन, ऐसा प्लेटफॉर्म ढूंढने के लिए, जो आपको बेसिक सुविधाएं तो दे ही, कुछ दूसरे बेनेफिट्स भी दे, इसके लिए आपको थोड़ी रिसर्च करनी पड़ेगी. मान लीजिए आप देश के पॉपुलर एक्सचेंज WazirX के साथ अपना अकाउंट खोलना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको ये स्टेप फॉलो करने होंगे-

- अपने स्मार्टफोन में WazirX ऐप डाउनलोड करिए और इसकी वेबसाइट पर जाकर साइन अप करिए.
- साइन अप के लिए अपनी एक ईमेल आईडी डालिए और एक पासवर्ड सेट करिए.
- आपको इस ईमेल आईडी पर एक ईमेल आएगा, वहां जाइए, उसमें आपको Verify Email का ऑप्शन आएगा, जिसपर क्लिक करिए.
- इसके बाद आपके सामने चेकबॉक्स होगा, जिसपर क्लिक करने से पहले जरूरी है कि आप सभी टर्म्स एंड कंडीशन पढ़ लें. फिर चेकबॉक्स पर क्लिक करें.

लेकिन आपको ट्रेडिंग शुरू करने से पहले एक KYC (Know Your Customer) वेरिफिकेशन प्रोसेस से गुजरना होगा, जोकि अलग-अलग एक्सचेंज पर अलग-अलग हो सकता है.

क्रिप्टो एक्सचेंज क्या-क्या सुविधाएं देते हैं?

भारत में WazirX, CoinDCX, Binance और Unocoin जैसे एक्सचेंज सबसे ज्यादा पॉपुलर हैं और इस्तेमाल किए जाते हैं. उदाहरण के लिए WazirX पर निवेशक क्रिप्टो कॉइन्स की आसानी से बाइंग, सेलिंग और ट्रेडिंग कर सकते हैं. WazirX निवेशकों को P2P (Peer-to-Peer) नेटवर्किंग की सुविधा भी देता है, जिसमें निवेशक सीधे दूसरे निवेशक के साथ ट्रेडिंग कर सकते हैं, इसमें उन्हें किसी थर्ड पार्टी और मध्यस्थ की जरूरत ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें नहीं पड़ती है. सबसे दिलचस्प बात कि आप क्रिप्टो एक्सचेंज पर क्रिप्टो को फ्लैट करेंसी यानी रुपया, डॉलर जैसी ट्रेडिशनल करेंसी में भी कन्वर्ट करा सकते हैं, जोकि कन्वर्जन के बाद निवेशक के सोर्स अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है.

अब देर रात तक नहीं होगी कमोडिटी ट्रेडिंग, कोरोना की वजह से 5 बजे END

कोरोना वायरस की वजह से कमोडिटी एक्सचेंजों का कामकाज भी प्रभावित हुआ है. अब चीन की राह पर चलते हुए भारत ने भी कमोडिटी कारोबार रात में बंद रखने का फैसला लिया है.

कोरोना वायरस की वजह से कमोडिटी एक्सचेंज प्रभावित

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 26 मार्च 2020,
  • (अपडेटेड 26 मार्च 2020, 6:14 PM IST)
  • 30 मार्च से 14 अप्रैल तक सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक कमोडिटी ट्रेडिंग
  • सेबी के साथ बातचीत के बाद कमोडिटी एक्सचेंजों के टाइमिंग में बदलाव

कोरोना वायरस की वजह से कमोडिटी एक्सचेंजों का कामकाज भी प्रभावित हुआ ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें है. अब चीन की राह पर चलते हुए भारत ने भी कमोडिटी कारोबार रात में बंद रखने का फैसला लिया है. दरअसल, MCX और NCDEX जैसे कमोडिटी एक्सचेंजों ने ट्रेडिंग ऑवर में कटौती का फैसला किया है.

अब 30 मार्च से 14 अप्रैल के बीच कमोडिटी में 14 घंटे की जगह सिर्फ 8 घंटे ही ट्रेडिंग हो सकेंगे. अब कारोबार खत्म होने का नया समय शाम 5 बजे कर दिया गया है, पहले आधी रात तक कारोबार होता था.

अब शाम 5 बजे तक कमोडिटी ट्रेडिंग

MCX, NCDEX के अलावा ICEX, NSE ने भी कमोडिटी ट्रेडिंग टाइम घटा दिया है. 30 मार्च से 14 अप्रैल तक सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक ट्रेडिंग की जा सकेगी. फिलहाल सुबह 9 बजे से रात 11:45 तक ट्रेडिंग होती है. जबकि इक्विटी मार्केट दोपहर 3.30 बजे बंद होता है.

गौरतलब है कि BSE और NSE ने कहा कि COVID-19 के प्रकोप को देखते हुए 21 दिन के लॉकडाउन की वजह से सेबी के साथ बातचीत कर ट्रेडिंग टाइमिंग को बदलने के बारे में निर्णय लिया गया है.

कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए फैसला

कमोडिटी पार्टिसिपेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (CPAI) के अध्यक्ष नरिंदर वाधवा ने कहा कि कमोडिटी कारोबार के टाइमिंग में बदलाव से इससे जुड़े लोगों को बड़ी राहत मिलेगी. गौरतलब है कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखकर केंद्र सरकार ने 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया है.

सुरक्षा की जरूरत: क्रिप्टो से फायदा कमा सकते हैं, लेकिन पासवर्ड भूले तो सारा निवेश जीरो हो सकता है

यदि आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं, तो यकीन मानिए इसका कुछ न कुछ असर आपके इन्वेस्टमेंट प्लानिंग पर पड़ना तय है। हलके फुल्के अंदाज में भी क्रिप्टो में लगाया गया यह पैसा रातों-रात आपके कुल निवेश का एक महत्वपूर्ण हिस्सा तक बन सकता है। पर याद रखें कि जिंदगी एक बार ही मिलती है और एक दिन मरना जरूर है। इसलिए इस दुनिया से ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें कूच करने से पहले अपने क्रिप्टो के इन्वेस्टमेंट के लिए एक योजना अवश्य बनाएं।

पारंपरिक खाते की तरह नहीं होते हैं क्रिप्टो के अकाउंट

क्रिप्टो के अकाउंट पारंपरिक निवेश खातों की तरह नहीं होते हैं। वे सुरक्षा के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। आप आमतौर पर इसमें किसी को लाभार्थी (beneficiary) नॉमिनेट नहीं कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने क्रिप्टो को अपने घर पर किसी डिवाइस पर स्टोर करते हैं और आपके दोस्त इसका पासवर्ड जानते हैं तो वे आसानी से आपकी ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें क्रिप्टो करेंसी चोरी कर सकते हैं। ठीक वैसे ही जितनी आसानी से वे आपकी दादी के सोने या हीरे के झुमके चोरी कर सकते हैं। अगर आपने किसी के साथ पासवर्ड साझा नहीं किया है, तो आपकी क्रिप्टो करेंसी हमेशा के लिए खो सकती है।

सुरक्षित रूप से स्टोर करने की जरूरत

यहाँ यह समझना ज्यादा महत्वपूर्ण है कि अपनी क्रिप्टो करेंसी को सुरक्षित रूप से कैसे स्टोर किया जाए और अपने प्रियजनों के साथ अपनी इच्छाओं को कैसे बताया जाए। ठीक उसी तरह जैसे आप किसी अन्य मूल्यवान संपत्ति के साथ करते हैं। आप क्रिप्टो का व्यापार और स्टोरेज वॉलेट में करते हैं, लेकिन ये वॉलेट चमड़े का नहीं होता है। क्रिप्टो वॉलेट या तो डिजिटल हो सकते हैं या किसी ऐप या वेबसाइट पर मैनेज किए जा सकते हैं, या थंब ड्राइव की तरह फिजिकल हो सकते हैं। आप जैसा चुनते हैं, वह इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने क्रिप्टो के साथ क्या करना चाहते हैं।

जितना नुकसान सह सकते हैं उतना ही क्रिप्टो करेंसी रखिए

वर्जीनिया के रिचमंड में जेम्स रिवर लॉ के संस्थापक और मैनेजिंग अटॉर्नी एलेक्स मेजियस कहते हैं कि लंबे समय के रूप में आप थर्ड पार्टी के एक्सचेंज पर आपकी जितनी खोने की ताकत है, उतना ही क्रिप्टो करेंसी वहां पर रखिए। आप पासवर्ड को नियंत्रित नहीं करते हैं। वे आपकी करेंसी को फ्रीज कर सकते हैं या उस पर हमला कर सकते हैं। एक कोल्ड वॉलेट एक छोटा फिजिकल स्टोरेज वाला कोई डिवाइस हो सकता है जिसे आसानी से गलत जगह पर रखा जा सकता है। आपके कोल्ड वॉलेट को एक्सेस के लिए एक पिन कोड की आवश्यकता होती है। साथ ही यदि आप पासवर्ड भूल जाते ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें हैं तो आप बैकअप के रूप में एक रिकवरी पेज सेट करते हैं।

समझने वाले स्टोरेज को डिजाइन करें

मेजियस कहते हैं कि सबसे बड़ी बात एक स्टोरेज को डिज़ाइन करें जो समझ में आता है। यह इतना भी जटिल न बन जाये जिसे आप याद ही नहीं रख सकें। कई बार लोग अपना पासवर्ड कहीं लिख लेते हैं या कागज के टुकड़े पर लिख कर ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें छुपा लेते हैं। यह एक अच्छे विचार की तरह लगता है, लेकिन वास्तव में यह एक बहुत बुरा आइडिया है। यदि आप उन तीनों में से किसी एक को भी खो देते हैं, तो यह हमेशा के लिए चला जाता है और इस तरह से आपने अपने जोखिम को तीन गुना कर लेते हैं ।

वसीयत में नॉमिनी का नाम दें

अपनी वसीयत में एक नॉमिनी का नाम दें और अपनी प्रॉपर्टी के प्लान में एक दस्तावेज़ जोड़ें। इसमें आपकी क्रिप्टो असेट और आपके कोल्ड वॉलेट को खोजने के लिए कोई भी पासवर्ड लिखें हों। यदि आपका क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज में अकाउंट है, तो आपका लाभार्थी आपकी मृत्यु के बारे में पता चलने के बाद कस्टमर केयर से संपर्क कर सकता है।

जानकारी को अपडेट रखें

यह सुनिश्चित करें कि ट्रेडिंग की तैयारी कैसे करें संपत्ति की जानकारी अपडेट रखें। इससे यह सही लोगों के पास जाएगी, खासकर शादी या तलाक जैसे जीवन के बड़े फैसलों के बाद। इसलिए प्लान और वॉलेट को हमेशा अप-टू-डेट रखें ताकि लाभार्थी तक आपकी संपत्ति ट्रांसफर हो सके। यह आपके प्रियजनों पर बोझ को कम करने में मदद तो करता ही है साथ ही आपसी झगड़े या मनमुटाव को भी रोकता है।

याद रखें कि किसी की मृत्यु के बाद उंसके वारिसों के बीच होने वाले झगड़े अक्सर जटिलता उतपन्न करते हैं। मेजियस कहते हैं कि क्रिप्टो के अंदर अपनी कीमत को अचानक बढ़ा लेने की अद्भुत क्षमता है। इसलिए यह एक बहुत ही विस्फोटक चीज है।

रेटिंग: 4.98
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 549