राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह सुबह-सुबह दिल्ली से ट्रेन से बीना पहुंचे, जहां उन्होंने कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। वह यहां से सड़क मार्ग से खुरई पहुंचे। खुरई में वे वे सबसे पहले राकेश दुबे गमीरिया के घर गए। राकेश दुबे सेल्फी कांड में 78 दिनों तक जेल में रहे हैं। दुबे ने दिग्विजय सिंह को अपनी व्यथा सुनाई और बताया कि किस तरह से खुरई में भाजपा नेताओं के इशारों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है।

'अब पप्पू कौन है?', केंद्र पर सवाल करते हुए महुआ मोइत्रा ने पूछा

सांसद महुआ मोइत्रा ने आज संसद में एक बड़ा सवाल उठाया- 'अब पप्पू कौन है?' उन्होंने नोटबंदी से लेकर ईडी की कार्रवाई और अर्थव्यवस्था की हालत तक पर गंभीर सवाल उठाए और पूछा कि 'बताएँ कि अब पप्पू कौन है?' 'पप्पू' कहने से उनका क्या मतलब था, इसका भी उन्होंने अपने भाषण में जवाब दिया। मोइत्रा ने कहा कि यह शब्द सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा 'निंदा करने, अत्यधिक अक्षमता को दर्शाने' के लिए गढ़ा गया था। उन्होंने कहा कि 'मुझे आँकड़े बताने दीजिए ताकि पता चले कि वास्तव में पप्पू कौन है?'

तृणमूल कांग्रेस सांसद ने बीजेपी सरकार पर अक्षम होने का आरोप लगाते हुए औद्योगिक उत्पादन, विनिर्माण क्षेत्र के प्रदर्शन और भारत छोड़ने वाले लोगों की संख्या पर कई सवाल किए। उन्होंने बार-बार पूछा कि 'अब पप्पू कौन है?'

महुआ ने मंगलवार को औद्योगिक उत्पादन पर सरकार के ही आंकड़ों का हवाला देते हुए आर्थिक प्रगति के उसके दावों पर हमला किया। उन्होंने कहा कि हर फरवरी में सरकार ने लोगों को विश्वास दिलाया कि अर्थव्यवस्था बहुत अच्छा कर रही है, और सभी को गैस सिलेंडर, आवास और बिजली जैसी सभी बुनियादी सुविधाएँ मिल रही हैं, लेकिन ये दावे झूठे हैं। उन्होंने कहा कि आठ महीने बाद अब दिसंबर में सच्चाई सामने आने लगी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने कहा है कि उसे बजट अनुमान के अलावा 3.26 लाख करोड़ रुपये की अतिरिक्त धनराशि की ज़रूरत है।

2022-23 के लिए अतिरिक्त अनुदान की मांगों पर लोकसभा की बहस में मोइत्रा ने नरेंद्र मोदी सरकार पर भारत के विकास के बारे में 'झूठ' फैलाने का आरोप लगाया। उन्होंने दावा किया कि अर्थव्यवस्था गिर रही है।

congress gehlot announces lpg cylinder prices reduction in rajasthan - Satya Hindi

ग़रीबों को आधे दाम- 500 रुपये में देंगे एलपीजी सिलेंडर: गहलोत

Rahul Gandhi hit BJP, said- English will work, not Hindi - Satya Hindi

राहुल गांधी ने बीजेपी को छेड़ा, कहा- अंग्रेजी चलेगी, हिन्दी नहीं

china accumulated with drones jets after tawang clash - Satya Hindi

तवांग झड़प के बाद चीन ने बड़ी संख्या में तैनात विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट किए थे ड्रोन, जेट: रिपोर्ट

Center government badly surrounded on China - Satya Hindi

चीन पर बुरी तरह घिरा केंद्र, पवन खेड़ा ने लगाए कई आरोप

Dalai Lama-I like India, why would go to China - Satya Hindi

मुझे भारत पसंद, चीन क्यों जाऊंगाः दलाई लामा

Pathaan film controversy song Besharam Rang - Satya Hindi

पठान: बघेल बोले- भगवा रंग का गमछा पहन कर निकले हैं बजरंगी गुंडे

Belagavi Tension thousands policemen deployed, ban on MP - Satya Hindi

बेलगावी में तनाव, हजारों पुलिसकर्मी तैनात, सांसद के आने पर पाबंदी

Jignesh Mewani asks those who do not vote BJP, are they traitors? - Satya Hindi

'क्या बीजेपी को वोट न देने वाले गद्दार हैं'- मेवानी ने पूछा

Muslim Nawab Sher Mohammad Khan of Malerkotla - Satya Hindi

मलेरकोटला: सिख इतिहास का अहम पन्ना हैं मुसलिम नवाब शेर मोहम्मद खान

टीएमसी सांसद ने कहा कि बजट में अतिरिक्त व्यय का प्रावधान राजकोषीय घाटे को बढ़ा देगा और राजकोषीय घाटे को नियंत्रित करने का सरकार का अपना ही लक्ष्य पूरा नहीं होगा। सोमवार को जारी एनएसओ के आँकड़ों के मुताबिक़ अक्टूबर में औद्योगिक उत्पादन 4 फीसदी सिकुड़कर 26 महीने के निचले स्तर पर आ गया। नौकरियाँ पैदा करने वाला विनिर्माण क्षेत्र 5.6% सिकुड़ा, जबकि औद्योगिक उत्पादन सूचकांक वाले 17 उद्योग क्षेत्रों में नकारात्मक वृद्धि दर दर्ज की गई। मोइत्रा ने कहा कि सिर्फ एक साल के भीतर विदेशी मुद्रा भंडार में 72 अरब डॉलर की गिरावट आई है।

मोइत्रा ने हाल ही में संपन्न हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार को लेकर भी निशाना साधा और कहा कि सत्ताधारी पार्टी के अध्यक्ष अपने गृह राज्य में सत्ता बरकरार नहीं रख पाए। उन्होंने पूछा, 'अब पप्पू कौन है?'

सांसद ने सरकार द्वारा साझा किए गए आँकड़ों के विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट बारे में भी बात की। उस आँकड़े में कहा गया है कि मोदी सरकार के पिछले नौ वर्षों में नागरिकता छोड़ने वालों की संख्या लगभग 12.5 लाख विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट है। उन्होंने पूछा, 'क्या यह एक स्वस्थ आर्थिक और कर वातावरण का संकेत है? अब पप्पू कौन है?'

टीएमसी सांसद ने अपनी पार्टी सहित विपक्षी नेताओं के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय जैसी सरकारी एजेंसियों द्वारा शुरू की गई जांच पर भी सवाल उठाया। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा, 'सत्तारूढ़ दल सांसदों को विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट सैकड़ों करोड़ रुपये नकद में खरीदता है और फिर भी ईडी द्वारा जाँच किए जा रहे सदस्यों में से 95 फ़ीसदी सांसद विपक्ष के सदस्य हैं… क्या ईडी का उद्देश्य केवल नागरिकों को परेशान करना है या वास्तव में वित्तीय अपराधों के अपराधियों को ट्रैक करना और दंडित करना है? अक्षमता का यह स्तर क्या है? अब पप्पू कौन है?'

मोइत्रा ने सरकार पर प्रधानमंत्री मोदी के अंतर्गत भारत की विकास को लेकर झूठ फैलाने का आरोप लगाया और कहा कि 2016 में उसके द्वारा लागू नोटबंदी अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में विफल रही। उन्होंने कहा, 'नकदी अभी भी शीर्ष पर है। नोटबंदी ने जो लक्ष्य निर्धारित किया था, उसमें से कोई भी हासिल नहीं हुआ। अब पप्पू कौन है?'

महुआ मोइत्रा की 'पप्पू पॉलिटिक्स' क्या राहुल गांधी से हाथ मिलाने की कोशिश है?

BJP राहुल गांधी को 'पप्पू' बताती है, राज्यसभा में महुआ मोइत्रा ने बीजेपी को असली 'पप्पू' बताया

महुआ मोइत्रा की 'पप्पू पॉलिटिक्स' क्या राहुल गांधी से हाथ मिलाने की कोशिश है?

तृणमूल कांग्रेस (TMC) की नेता महुआ मोइत्रा जब से पश्चिम बंगाल के कृष्णानगर से सांसद बनी हैं, तब से वह लगातार लोकसभा में अपने जोरदार भाषणों के लिए जानी जाती हैं. जब उन्होंने सदन के पटल पर अपना पहला आक्रामक भाषण दिया था, तब उन्होंने हलचल पैदा कर दी थी. उस उग्र भाषण में मोइत्रा ने 'फासीवाद के सात लक्षण' की ओर इशारा किया और यह दिखाने का प्रयास किया कि केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार किस तरह से उस (फासीवाद) रास्ते पर चल रही है.

केंद्र से पूछा सवाल- 'अब पप्पू कौन?'

महुआ मोइत्रा ने इस हफ्ते की शुरुआत में एक बार फिर नरेंद्र मोदी सरकार की तीखी आलोचना की है. इस बार इसमें एक दिलचस्प मोड़ आया. सरकार के ही आंकड़ों (अक्टूबर में औद्योगिक उत्पादन 4 प्रतिशत कम होकर 26 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया था और विदेशी मुद्रा भंडार एक साल के भीतर 72 बिलियन यूएस डॉलर गिर गया था) पर ध्यान आकर्षित करते हुए मोइत्रा ने सरकार का मजाक उड़ाते हुए पूछा, "अब पप्पू कौन है?"

इसमें कोई शक नहीं है कि "पप्पू" बीजेपी का विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट पसंदीदा शब्द है, जोकि पार्टी द्वारा राहुल गांधी के लिए गढ़ा गया है, जो उनकी (राहुल की) तथाकथित अक्षमता और असंबद्धता को व्यक्त करने के लिए बुना गया था. वहीं अब मोइत्रा ने भी कहा कि सत्ताधारी पार्टी ने इस शब्द को "बदनाम करने, अत्यधिक अक्षमता को दर्शाने" के लिए गढ़ा था. इसके बाद मोइत्रा ने एक के बाद एक आंकड़ों का हवाला देते हुए यह सिद्ध करने का प्रयास किया कि सही मायने में यह बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार है, जो बेजोड़ अक्षमता और अयोग्यता का प्रदर्शन कर रही है, इसलिए असल में वो खुद 'पप्पू' है.

अगर आपने अपनी आंखें बंद करके इस भाषण को सुना तो आप यह सोचने की गलती कर सकते हैं कि यह स्पीच टीएमसी के बजाय किसी कांग्रेस सांसद द्वारा लिखी और प्रस्तुत की गई. ये गलती इसलिए हो सकती है क्योंकि यह बीजेपी पर एक जोरदार हमला था, जिसमें राहुल गांधी को "पप्पू" बताने का विरोध किया गया था. (वहीं एक बात यह भी है कि इस समय कांग्रेस में ऐसा कोई नजर नहीं आता जो इतनी उग्र स्पष्टता, अधिकार और वाकपटुता से सरकार पर सवाल उठा सके और उस पर हमला कर सके.)

आप विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट में से किसी को यह बात आश्चर्य में डाल सकती है. लेकिन यह कोई नई बात नहीं है. इस साल की शुरुआत में टीएमसी महासचिव और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिजीत बनर्जी से एक वित्तीय घोटाले में उनकी कथित संलिप्तता के संबंध में जब प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कई घंटों तक पूछताछ की थी तब उन्होंने ( अभिजीत बनर्जी ने) गृह मंत्री अमित शाह को "भारत का सबसे बड़ा पप्पू" कहा था. उसके बाद, टीएमसी के कई नेताओं को अमित शाह की तस्वीर वाली टी-शर्ट पहने और "भारत का सबसे बड़ा पप्पू" नारा लिखे हुए देखा गया.

गुंडागर्दी ठीक नहीं, लड़ना है तो मैदान में आओ: खुरई में दिग्विजय सिंह ने मंत्री भूपेंद्र सिंह को दी चेतावनी

फर्जी मुकदमा झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने खुरई पहुंचे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, मंत्री भूपेंद्र को चुनौती देते हुए कहा- निर्दोष लोगों को क्यों जेल में डालते हो, लड़ना है तो मेरे सामने मैदान में आओ।

गुंडागर्दी ठीक नहीं, लड़ना है तो मैदान में आओ: खुरई में दिग्विजय सिंह ने मंत्री भूपेंद्र सिंह को दी चेतावनी

खुरई। कांग्रेस के कद्दावर नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शनिवार को सागर दौरे पर हैं। सिंह सागर के खुरई विधानसभा क्षेत्र में फर्जी मुकदमा झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बीजेपी मंत्री भूपेंद्र सिंह को चेतावनी देते हुए कहा कि गुंडागिरी ठीक नहीं है, लड़ाई लड़ना है तो मैदान में आओ।

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह सुबह-सुबह दिल्ली से ट्रेन से बीना पहुंचे, जहां उन्होंने कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। वह यहां से सड़क मार्ग से खुरई पहुंचे। खुरई में वे वे सबसे पहले राकेश दुबे गमीरिया के घर गए। राकेश दुबे सेल्फी कांड में 78 दिनों तक जेल में रहे हैं। दुबे ने दिग्विजय सिंह को अपनी व्यथा सुनाई और बताया कि किस तरह से खुरई में भाजपा नेताओं के इशारों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है।

इसके बाद सिंह ने खुरई के अंबेडकर चौराहे पर पहुंचकर डॉ आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। माल्यार्पण के बाद नथन सिंह राजपूत के घर जाकर उनसे बातचीत की। साथ ही नगर पालिका चुनाव से सागर जेल में बंद अंशुल परिहार के घर पहुंचकर उनके परिजनों को भी ढांढस बढ़ाया। नगर पालिका के चुनाव में कांग्रेस की पार्षद प्रत्याशी रही राधा देवी के घर पर पहुंचकर भी उनका हाल जाना। सभी प्रताड़ित विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सिंह को अपनी पीड़ा बताई।

सिंह ने यहां मंत्री भूपेंद्र सिंह को गुंडागिरी न करने की नसीहत दी। मीडिया से चर्चा करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि मध्य प्रदेश में झूठे केस बनाने का रिकॉर्ड कायम हो रहा है। कांग्रेसियों को झूठे मुकदमों में फंसाया जा रहा है। मेरे 10 साल के मुख्यमंत्री काल के दौरान मैंने क्या भूपेंद्र सिंह के लिए कोई एक भी परेशानी होने दी है। अगर हुई हो तो वह इसका जवाब दें, लेकिन यह क्या तरीका है? दादागिरी, गुंडागिरी कर रहे हैं। यह ठीक नहीं है। अगर लड़ाई लड़ना है तो मैदान में आओ, निर्दोष लोगों को क्यों बंद करते हो? आओ लड़ो मैं भी आ रहा हूं।'

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि खुरई के एसडीओपी और एसडीएम भुपेंद्र सिंह के नौकर की तरह काम करते है। उन्होंने कहा कि हम लोग इसके प्रमाण इकट्‌ठा कर रहे है। हम भी देखते हैं कि वे नौकरी कैसे करते हैं। मुकदमों में फंसने के बाद कांग्रेस छोड़ने वाले अरुणोदय चौबे के बारे में पूछे जाने पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि, 'मैंने और कमलनाथ जी ने उनका हर समय सहयोग किया। लेकिन वे डर गए।'

खुरई में भूपेंद्र सिंह के खिलाफ चुनाव कौन लड़ेगा? इस सवाल का जवाब देते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि हमारे पास उम्मीदवारों की कोई कमी है क्या? अगर कोई नहीं लड़ेगा तो मैं खुद यहां से चुनाव लडूंगा।

'सवाल यह नहीं है कि बस्ती किसने जलाई, सवाल है कि पागल के हाथ में माचिस किसने दी' - विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट महुआ ने सुनाई सरकार को खरी-खोटी

सवाल यह नहीं है कि बस्ती किसने जलाई, सवाल है कि पागल के हाथ में माचिस किसने दी. इन शब्दों के साथ तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा अपने उस हमलावर भाषण को लोकसभा में खत्म किया जो उन्होंने सरकार की तरफ से पेश अनुपूरक मांगों को लेकर दिया था।

संसद टीवी का स्क्रीनशॉट

संसद टीवी का स्क्रीनशॉट

नवजीवन डेस्क

सवाल यह नहीं है कि बस्ती किसने जलाई, सवाल है कि पागल के हाथ में माचिस किसने दी. इन शब्दों के साथ तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा अपने उस हमलावर भाषण को लोकसभा में खत्म किया जो उन्होंने सरकार की तरफ से पेश अनुपूरक मांगों को लेकर दिया था।

महुआ नेमंगलवार को देश की अर्थव्यवस्था को संभालने के सरकार के तौर-तरीकों पर तीखा निशाना साधा। उन्होंने सरकार की नाकामी को आंकड़ों के जरिए सामने रखते हुए कहा कि 'बताओ कि असली पप्पू कौन है'? उन्होंने कहा कि किसी को नीचा दिखाने के लिए पप्पू शब्द का इस्तेमाल किया गया।

तृणमूल कांग्रेस सांसद मंगलवार को आर्थिक आंकड़ों को एक के बाद सामने रखा। उन्होंने लोकसभा में 2022-23 के लिए अनुदान की अनुपूरक मांगों के पहले बैच और 2019-20 के लिए अनुदान की अतिरिक्त मांगों पर चर्चा को आगे बढ़ाते हुए जोरदार तरीके से अपनी बात रखी।

उन्होंने राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के आंकड़ों के हवाले से कहा कि अक्टूबर में औद्योगिक उत्पादन चार प्रतिशत गिर गया था, जो 26 महीनों के सबसे कम न्यूनतम स्तर पर है।विदेशी मुद्रा भंडार में एक साल के भीतर 72 अरब डॉलर की कमी आई है। उन्होंने कहा कि विदेश राज्य मंत्री ने सदन में बताया कि पिछले नौ वर्षों में लाखों लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़ दी. ऐसा क्यों हो रहा है कि लोग नागरिकता छोड़ रहे हैं।

महुआ मोइत्रा ने कहा कि, ‘विरोधी दलों के नेताओं को परेशान करने के लिए ईडी को इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन सरकार यह तो बताए कि ईडी के मामलों में दोषसिद्धि का प्रतिशत क्या है? क्या सिर्फ लोगों को परेशान करने के लिए इस एजेंसी का इस्तेमाल हो रहा है?

तृणमूल सांसद ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के एक बयान का जिक्र करते हुए कहा,‘हम लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं। हमारा यह अधिकार है कि सरकार की अक्षमता को लेकर सवाल करें. यह सरकार का राजधर्म है कि वह जवाब दे. वह ‘खिसियानी बिल्ली’ की तरह व्यवहार नहीं करे।’

उन्होंने हालिया विधानसभा चुनाव के नतीजों और खासकर हिमाचल प्रदेश के चुनाव परिणाम का हवाला देते हुए कहा,‘सत्तारूढ़ पार्टी के अध्यक्ष अपना गृह राज्य नहीं बचा सके, वहां हार का सामना करना पड़ा. अब ‘असली पप्पू’ कौन है?’ उन्होंने कहा कि सरकार वह होनी चाहिए जो ‘मजबूत नैतिकता’, ‘मजबूत कानून व्यवस्था’ और ‘मजबूत अर्थव्यवस्था’ सुनिश्चित करे।

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia

गुंडागर्दी ठीक नहीं, लड़ना है तो मैदान में आओ: खुरई में दिग्विजय सिंह ने मंत्री भूपेंद्र सिंह को दी चेतावनी

फर्जी मुकदमा झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने खुरई पहुंचे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, मंत्री भूपेंद्र को चुनौती देते हुए कहा- निर्दोष लोगों को क्यों जेल में डालते हो, लड़ना है तो मेरे सामने मैदान में आओ।

गुंडागर्दी ठीक नहीं, लड़ना है तो मैदान में आओ: खुरई में दिग्विजय सिंह ने मंत्री भूपेंद्र सिंह को दी चेतावनी

खुरई। कांग्रेस के कद्दावर नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शनिवार को सागर दौरे पर हैं। सिंह सागर विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट विदेशी मुद्रा भंडार में क्यों आई गिरावट के खुरई विधानसभा क्षेत्र में फर्जी मुकदमा झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बीजेपी मंत्री भूपेंद्र सिंह को चेतावनी देते हुए कहा कि गुंडागिरी ठीक नहीं है, लड़ाई लड़ना है तो मैदान में आओ।

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह सुबह-सुबह दिल्ली से ट्रेन से बीना पहुंचे, जहां उन्होंने कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। वह यहां से सड़क मार्ग से खुरई पहुंचे। खुरई में वे वे सबसे पहले राकेश दुबे गमीरिया के घर गए। राकेश दुबे सेल्फी कांड में 78 दिनों तक जेल में रहे हैं। दुबे ने दिग्विजय सिंह को अपनी व्यथा सुनाई और बताया कि किस तरह से खुरई में भाजपा नेताओं के इशारों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है।

इसके बाद सिंह ने खुरई के अंबेडकर चौराहे पर पहुंचकर डॉ आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। माल्यार्पण के बाद नथन सिंह राजपूत के घर जाकर उनसे बातचीत की। साथ ही नगर पालिका चुनाव से सागर जेल में बंद अंशुल परिहार के घर पहुंचकर उनके परिजनों को भी ढांढस बढ़ाया। नगर पालिका के चुनाव में कांग्रेस की पार्षद प्रत्याशी रही राधा देवी के घर पर पहुंचकर भी उनका हाल जाना। सभी प्रताड़ित कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सिंह को अपनी पीड़ा बताई।

सिंह ने यहां मंत्री भूपेंद्र सिंह को गुंडागिरी न करने की नसीहत दी। मीडिया से चर्चा करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि मध्य प्रदेश में झूठे केस बनाने का रिकॉर्ड कायम हो रहा है। कांग्रेसियों को झूठे मुकदमों में फंसाया जा रहा है। मेरे 10 साल के मुख्यमंत्री काल के दौरान मैंने क्या भूपेंद्र सिंह के लिए कोई एक भी परेशानी होने दी है। अगर हुई हो तो वह इसका जवाब दें, लेकिन यह क्या तरीका है? दादागिरी, गुंडागिरी कर रहे हैं। यह ठीक नहीं है। अगर लड़ाई लड़ना है तो मैदान में आओ, निर्दोष लोगों को क्यों बंद करते हो? आओ लड़ो मैं भी आ रहा हूं।'

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि खुरई के एसडीओपी और एसडीएम भुपेंद्र सिंह के नौकर की तरह काम करते है। उन्होंने कहा कि हम लोग इसके प्रमाण इकट्‌ठा कर रहे है। हम भी देखते हैं कि वे नौकरी कैसे करते हैं। मुकदमों में फंसने के बाद कांग्रेस छोड़ने वाले अरुणोदय चौबे के बारे में पूछे जाने पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि, 'मैंने और कमलनाथ जी ने उनका हर समय सहयोग किया। लेकिन वे डर गए।'

खुरई में भूपेंद्र सिंह के खिलाफ चुनाव कौन लड़ेगा? इस सवाल का जवाब देते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि हमारे पास उम्मीदवारों की कोई कमी है क्या? अगर कोई नहीं लड़ेगा तो मैं खुद यहां से चुनाव लडूंगा।

रेटिंग: 4.94
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 390